Breaking News
Home / अंतरराष्ट्रीय / नालंदा विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर बे ऑफ बंगाल स्टडीज का होगा स्थापना : पीएम
latest-news copy

नालंदा विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर बे ऑफ बंगाल स्टडीज का होगा स्थापना : पीएम

जागरण न्यूज़ एक्सप्रेस/नेपाल/काठमांडू : प्रधानमंत्री ने कहा, ‘बंगाल की खाड़ी क्षेत्र में कला, संस्कृति, सामुद्रिक कानूनों और अन्य विषयों पर शोध के लिए हम नालंदा विश्वविद्यालय में एक सेंटर फॉर बे ऑफ बंगाल स्टडीज की स्थापना भी करेंगे। हिमालय और बंगाल की खाड़ी से जुड़े हमारे देश, बार-बार प्राकृतिक आपदाओं का सामना करते रहते हैं. कभी बाढ़, कभी साईक्लोन, कभी भूकंप। इस बारे में एक दूसरे के साथ सहयोग और आपदा राहत प्रयासों में हमारा सहयोग और समन्वय बहुत जरूरी है।

सम्मेलन में पीएम ने कहा, हममें से कोई भी देश ऐसा नहीं है जिसने आतंकवाद और आतंकवाद के नेटवर्क से जुड़े ट्रांस-नेशनल अपराधों और ड्रग्स तस्करी जैसी समस्याओं का सामना नहीं किया हो। नशीले पदार्थों से संबंधित विषयों पर हम बिम्सटेक फ्रेमवर्क में एक कॉन्फ्रेंस का आयोजन करने के लिए तैयार हैं। बिम्सटेक देशों में बंगाल की खाड़ी क्षेत्र में बसे सात देश-बांग्लादेश, भूटान, भारत, म्यांमार, नेपाल, श्रीलंका और थाइलैंड शामिल हैं. समूह में शामिल सात देशों की आबादी 1.5 अरब है जो कि दुनिया की आबादी का 21 फीसदी है और इस समूह का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 2500 अरब डॉलर है।

बिम्सटेक का मुख्य उद्देश्य बंगाल की खाड़ी क्षेत्र में स्थित दक्षिण एशियाई और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के बीच तकनीकी और आर्थिक सहयोग स्थापित करना है। दरअसल, एक्ट ईस्ट पॉलिसी और नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी को लेकर बिम्सटेक भारत के लिए महत्वपूर्ण है। गोवा में बिस्मटेक सम्मेलन का आयोजन होने के दो साल बाद काठमांडू में आयोजित इस सम्मेलन में समूह के सदस्य देशों के नेता मिल रहे हैं।

About जागरण न्यूज एक्सप्रेस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>